एक बूढ़ा – Best Inspirational Short Story In Hindi

Share This Story!

ये Best Inspirational Short Story In Hindi पढ़ने के बाद, आप अपने काम में कभी हार नहीं मानोगे और आपका जो काम है, जिसमें आप सक्सेस पाना चाहते हैं उस काम को आप डबल जोश के साथ करना शुरू कर दोगे।

Best Inspirational Short Story In Hindi

Best Inspirational Short Story In Hindi

यह कहानी पढ़ने के बाद, आप अपने काम में कभी हार नहीं मानोगे और आपका जो काम है, जिसमें आप सक्सेस पाना चाहते हैं उस काम को आप डबल जोश के साथ करना शुरू कर दोगे। तो कहानी जरा ध्यान से पढियेगा। 

यह कहानी है गांव की, जहां बहुत गरीब लोग रहा करते थे। खेती-बड़ी करके अपने घर वालों का पेट पाल करते थे। और उसी गांव में एक बाबा रहते थे, जिनके नाचने से बारिश हो जाया करती थी। कहानी आपको थोड़ी हंसी मजाकिया लगेगी, लेकिन कहानी का जो मोरल है वह बहुत काम में आने वाला है आपके। 

बाबा के नाचने से बारिश हो जाया करती थी और बहुत से लोग अपने आंखों से भी यह चीज देख चुके थे। तो जब भी कभी फसल के लिए बारिश की जरूरत होती थी, तो सारे गांव वाले इकट्ठा होकर उन बाबा जी के पास जाते थे। 

और उन्हें नाचने के लिए कहते, तो बाबा जी नाचते और बारिश हो जाती थी। तो एक बार उस गांव में बड़े शहर के कुछ लोग आते हैं, तो उन्हें भी पता चलती है यह बाबाजी वाली बात की बाबा जी नाचते हैं और बारिश हो जाती है। 

उन्हें पहले तो यकीन नहीं हुआ, तो उन्होंने सोचा: क्यों ना बाबा जी से पहले मिला जाये! फिर वो सारे गाओं वालों को इकट्ठा करके, बाबा जी के पास पहुंच गए। उन्होंने कहा: बाबा जी हम शहर से आए हैं और हम यह आपकी कला देखना चाहते हैं। 

बाबा जी ने कहा: एक काम करो, पहले आप नाचो! क्या पता आपके नाचने से भी बारिश हो जाए। उनमें से पहले एक लड़का नाचता है, वह 15-20 मिनट तक नाचता है लेकिन कोई बारिश नहीं होती। 

फिर दूसरा लड़का नाचता है, आधा-एक घंटा नाचता है फिर भी कोई बारिश नहीं होती। और एक-एक करके वह सारे लोग नाचते हैं, फिर भी कोई बारिश नहीं होती।

सब लोग बाबा जी से मिलके कहते हैं कि ” बाबा जी आप नाचो! क्या पता शायद बारिश हो जाए। ” और उन सब लोगों को यह विश्वास हो गया था, यह नाचेंगे और कोई बारिश नहीं होने वाली। 

उतने में ही बाबा जी नाचना शुरू कर देते हैं और कोई बारिश नहीं होती। आधा घंटा हो जाता है, एक घंटा हो जाता है 2 घंटे 4 घंटे। और कई जाकर जब शाम होती है और उस बाबा को नाचते हुए करीबन 8 से 10 घंटे हो जाते हैं। तब जाकर मौसम खराब होने लगता है, और बारिश हो जाती है। 

तो शहर से आए हुए लोग हैरान हो जाते हैं, वह बोलते हैं कि ” बाबा जी आपने क्या किया! आपने तो बारिश कर दी। आपके अंदर तो पावर है, आपने यह कैसे किया? “

तो बाबा जी बोलते हैं सुनो: जब मैं नाचता हूं, उससे पहले मैं यह मान लेता हूं की बारिश होने वाली है! पर मुझे पूरा यकीन हो जाता है, की बारिश होगी। और जब तक बारिश नहीं होती मैं नाचना बंद नहीं करता। अगर बारिश 4 दिन नहीं होती, मैं चार दिन नाचता रहता हूं। 

इस कहानी से हमें क्या सीख मिलती है: इस कहानी से हमें बहुत बड़ी सीख मिलती है दोस्तों! अगर आपको सक्सेस पानी है, तो पहले आपको अपने दिमाग में यह मानना है कि मुझे सक्सेस मिलने ही मिलनी है। 

अगर मैं पूरी मेहनत से कम कर रहा हूं, तो मुझे सक्सेस मिलने ही है। और मुझे जब तक अपने काम में सक्सेस नहीं मिलती, तब तक मुझे रुकना भी नहीं है। 

दोस्तों कहते हैं कि ” अगर हारने से डर लगता है, तो जीत का इरादा भी नहीं करना चाहिए। ” आपको अपने दिमाग में बैठा देना है की आपको अपने काम में सक्सेस मिलेगी ही मिलेगी। 

और कभी हार मत मानना मेरे दोस्त! क्या पता आप जिस कामयाबी के लिए बरसों से मेहनत करते आ रहे हैं, वह आपकी बहुत करीब हो।

कुछ मोटिवेशनल लाइन

” ठोकरें खाता हूं मगर शान से चलता हूं, मैं खुले आसमान में सीना तान के चलता हूं। मुस्किले तो साज है जिंदगी का! उठूंगा, गिरूंगा फिर उठूंगा और आखिर में जीतूंगा मैं ही, यह ठान के चलता हूं। “

” अपने हौसलों को यह ना बताओ कि तुम्हारी तकलीफ कितनी बड़ी है, तकलीफ को यह बताओ कि तुम्हारा हौसला कितना बड़ा है। इंसान तब समझदार नहीं होता, जब वह बड़ी-बड़ी बातें करने लगे! बल्कि समझदार तो तब होता है जब वह छोटी-छोटी बातों को समझने लगे। “

” जिंदगी में आप जो करना चाहते हैं वह जरूर कीजिए! यह मत सोचिए कि लोग क्या कहेंगे, क्योंकि लोग तो तब भी कहते हैं जब आप कुछ भी नहीं कर रहे होते। “

“तू अपनी खूबियां ढूंढ, कमियां निकालने के लिए लोग है ना! तू खुद की अलग पहचान बना, भीड़ में चलने के लिए लोग हैं ना। सपने देखते हैं तो उंचे देख, निचा दिखाने के लिए लोग है ना! अगर बनाना है तो नाम बना, बातें बनाने के लिए लोग है ना! “

“तू कुछ करके दिखा, तालियां बजाने के लिए लोग है ना! अपने अंदर जुनून की चिंगारी बड़का, जलने के लिए लोग है ना! अगर रखना ही है तो आगे कदम रख, पीछे खींचने के लिए लोग है न!”

5/5 - (2 votes)

Love to write stories about morality and motivational.

1 thought on “एक बूढ़ा – Best Inspirational Short Story In Hindi”

Leave a Comment