बुरा वक़्त – Inspirational Story In Hindi Language

Share This Story!

ये Inspirational Story In Hindi Language है एक राजा के बारे में, जिसकी राज्य बहुत छोटी थी और सैनिक भी। चलिए पढ़ते हैं के वो राजा किस तरह अपने राज्य को बचाता है।

Inspirational Story In Hindi Language

Inspirational Story In Hindi Language

एक वक्त की बात है, एक राजा था और उस राजा का राज्य बहुत छोटा था, और उस राजा के पास ज्यादा सिपाही भी नहीं थे। उसे हर वक़्त यह डर रहता कि कब, किधर से कोई उसके राज्य पर हमला कर दे। 

एक बार और आज जंगल के रास्ते से अपने महल की तरफ जा रहा था, तभी जंगल में उसे एक बड़े से पेड़ के नीचे, एक बुजुर्ग बैठे हुए दिखते हैं जो बहुत ही ज्ञानी थे। और सारे गांव वाले उन्हें से हर चीज की राय लेते थे।

राजा अपने घोड़े से उतरकर उन बुजुर्ग आदमी के पास जाता है और उनसे कहता है कि ” आप मुझे कोई ऐसा ताबीज दे दीजिए, जो मुझे बुरे वक्त से बचाकर रखें। ” यह सुनने के बाद उन बुजुर्ग आदमी ने राजा की तरफ मुस्कुराते हुए देखा और कहा:

कि ” मैं तुम्हें कोई ऐसा ताबीज या कोई ऐसी चीज नहीं दे सकता हूं, जो तुम्हें बुरे वक्त से बचा कर रखें! लेकिन मैं तुम्हें एक ऐसा ताबीज दे सकता हूं कि जब तुम पर कोई मुसीबत या बुरा वक्त आ जाए तो ताबिश को खोलने के बाद, वह ताबीज तुम्हें उस मुसीबत से लड़ने में मदद कर सकता है। “

लेकिन याद रखना! इस ताबीज को तभी खोलना, जब तुम पर चारों तरफ से मुसीबत आ चुकी हो, तुम्हारा समय बहुत खराब चल रहा हो और तुम्हारे लिए सारे दरवाजे बंद हो चुके हो। तब तुम उस ताबिश को खोलना, तुम्हें उस मुसीबत से लड़ने की हिम्मत मिल जाएगी। 

राजा उस तावीज़ को लेकर वहां से चला गया। कुछ समय बीतने के बाद, उस राजा के राज्य पर कुछ लोगों ने हमला कर दिया और राजा को पता था कि यह उसके साथ एक दिन जरूर होगा। 

राजा ने अपने सैनिकों को तैयार किया, लेकिन उसे राजा के पास ज्यादा सैनिक नहीं थे और इसीलिए वह यह जंग हार गया। लेकिन किसी तरह राजा एक घोड़े में बैठकर, वहां से अपनी जान बचाकर निकल गया। 

और वह जंगल के अंदर एक गुफा में जाकर छुप गया। लेकिन उसका पीछा करते-करते कुछ सैनिक भी उसके पीछे आ गए, अब वह राजा गुफा के अंदर छुपा हुआ था और उसे सैनिकों के कदमों की आवाज आ रही थी। 

अब उस राजा के पास कुछ भी नहीं बचा था, सब कुछ खत्म हो चुका था। तभी उसे उन बुजुर्ग का दिया हुआ ताबीज अपने गले में नजर आता है। उसने बड़ी ही उम्मीद के साथ उस ताबीज को खोल कर देखा। उस ताबीज के अंदर उसे एक चिट्ठी देखी, जिस पर लिखा हुआ था:

” यह वक्त भी गुजर जाएगा। “ यह पढ़ कर राजा को कुछ समझ नहीं आया और जब उसने फिर से उसे लाइन को ध्यान से पढ़ा और उसे समझा, तो राजा के चेहरे पर एक मुस्कान आ गई। 

मान लो उसे कोई सहारा मिल गया हो और फिर उस राजा ने एक गहरी सांस ली और उसने उन सैनिकों का मुकाबला किया और वहां से बच निकला। और दूसरे मुल्क में जाकर फिर से उसे राजा ने अपनी सल्तनत कायम की। 


दोस्तों! कहने को तो यह बहुत ही छोटी लाइन है, कि ” यह वक्त भी गुजर जाएगा। “ लेकिन इसके अंदर बहुत ही डीप मीनिंग छुपा हुआ है। और जब भी आप कोई मुसीबत में फंस चुके हो, बहुत सारी परेशानी आप पर आ चुकी है, चाहे आप पर बहुत सारा कर्जा हो चुका हो, आपके पास काम नहीं है और आप मेहनत कर रहे हो, लेकिन आपको उसका फल नहीं मिल रहा है। 

और आपको कोई रास्ता नजर नहीं आ रहा है, तब यह लाइन खुद को बोलकर देखना, आपको एक सुकून मिलेगा और आपको यह फील होगा कि जाने दो! आज जो भी मेरी कंडीशन है, कितना भी मेरा वक्त बुरा चल रहा है, लेकिन कल परसों और एक न एक दिन यह वक्त भी गुजर जाएगा। 

और तभी आपको उस मुसीबत से निपटने की हिम्मत मिल जाएगी। और वह कहते हैं ना कि ” जब आपका अच्छा समय चल रहा हो तो उस टाइम पर शुक्र करो और जब आपका बुरा वक्त चल रहा हो तो उस टाइम पर सबर करो।

क्योंकि समय अच्छा चल रहा हो या बुरा, वह ज्यादा दिन तक नहीं रहता। और जिंदगी उसे ही कहते हैं, जिसमें दुख भी हो और सुख भी! तभी लगता है कि हम जिंदगी जी रहे हैं। 

तो दोस्तों! आपको इस Inspirational Story In Hindi Language से और क्या सिख मिली? हमे कमेंट करके जरूर बताएं। धन्यबाद!

2. Inspirational Story In Hindi | शॉर्ट स्टोरी

एक समय की बात है की एक लड़का डॉक्टर बनना चाहता था, उसने अपना ग्रेजुएशन कंप्लीट किया और डॉक्टर की पढ़ाई शुरू कर दी। लेकिन उसे पढ़ाई नहीं हो पा रही थी, उसने पढ़ाई को साइड में रखा और रिश्वत देनी शुरू कर दी। 

रिस्वत खिलाकर उसने डॉक्टर की डिग्री हासिल कर ली। जब वह पहले दिन हॉस्पिटल में पहुंचा तो वहां पर एक बच्चे की एक्सीडेंट का केस आया हुआ था। जब वह ऑपरेशन थिएटर में गया तो उसे कुछ समझ नहीं आ रहा था। और इसी चक्कर में उस बच्चों की मौत हो जाती है। 

अब वह लड़का अपने आप में बहुत ही गिल्ट महसूस कर रहा था वह यह सोच रहा था की ” मुझे डॉक्टर ही नहीं बनना चाहिए था! ” लड़का ऑपरेशन थेटर से बाहर निकला उस बच्चों के घर वालों को बताने के लिए। उसने देखा कि उस बच्चों की पिता वही इंसान थे, जिनको इस लड़के ने रिश्वत दी थी। 

आपको इस Inspirational Story In Hindi से क्या सिख मिली और आपको क्या समझ में आया? हमें कमेंट करके जरूर बताईये।

Rate this post

Love to write stories about morality and motivational.

1 thought on “बुरा वक़्त – Inspirational Story In Hindi Language”

Leave a Comment