उड़ने वाला घोडा – Best Inspirational Story In Hindi

Share This Story!

ये Best Inspirational Story In Hindi आपको ज़िन्दगी का एक अहम सबक सिखाएगी। लिहाजा आप इस Inspirational Story को खूब ध्यान से पढ़ें!

Best Inspirational Story In Hindi

Best Inspirational Story In Hindi

एक बार एक राजा ने दो लोगों को फांसी की सजा सुनाई फांसी का दिन तय किया गया, और तब तक के लिए उन दोनों को एक काल कोठरी में डाल दिया गया। जब फांसी का दिन करीब आया तो उन दोनों को उसे कॉल कोटरी से बाहर निकल गया। 

फांसी के फंदे तक लेकर गए, और सारे लोग देख रहे थे, और उन दोनों की आंखों के सामने उनकी मौत खड़ी थी। दोनों के सामने फांसी के फंदे लटक रहे थे। उस राजा ने उन दोनों से पूछा अगर तुम्हारी कोई आखिरी इच्छा है, तो बताओ!

पहले आदमी ने कहा मेरी कोई आखिरी इच्छा नहीं है। दूसरा आदमी से पूछा गया ” क्या तुम्हारी कोई आखिरी इच्छा है? ” वह आदमी जानता था कि राजा के पास एक घोड़ा है और राजा अपने घोड़े से बहुत प्यार करता है। उस आदमी ने कहा मैं आपके घोड़े को एक उड़ने वाला घोड़ा बन सकता हूं। 

मेरे पास एक ऐसी विधा है जिसकी मदद से मैं आपके घोड़े को एक उड़ने वाला घोड़ा बना दूंगा। मैं तो मरने ही वाला हूं तूने मैं आपको यह विद्या देकर जाऊं। दरअसल वह आदमी जानता था कि राजा अपने घोड़े से बहुत मोहब्बत करता है। 

यह सब बातें सुनने के बाद राजा ने कहा ” किया तू सच में ऐसा कर सकता है? ” उसने कहा हां! 1 साल के अंदर मैं आपके घोड़े को उड़ने वाला घोड़ा बना दूंगा। राजा को लगा अगर सच में यह ऐसा कर सकता है, तो मैं दुनिया का एक लौता ऐसा राजा बन जाऊंगा, जिसके पास उड़ने वाला घोड़ा होगा। 

राजा ने कहा अगर 1 साल के अंदर तू  ऐसा नहीं कर सका तो? उस आदमी ने कहा तो आप मेरी गर्दन धड़ से अलग कर देना! राजा ने बात मान ली और 1 साल के लिए उस आदमी को रिहा कर दिया गया। यह सब होने के बाद जो पहला आदमी था जिसको फारसी होने वाली थी,

उसने उसे आदमी से कहा ” कि तूने झूठ क्यों बोला? तू जानता है कि ऐसी कोई विद्या नहीं है, तो तूने यह सब ढोंग क्यों रचा? ” उसने कहा मैंने अपने आप को चार पॉसिबिलिटी दी चार संभावनाएं दी,

  • पहली: घोड़ा बहुत बूढ़ा हो चुका है, क्या पता एक साल के अंदर, या एक दो महीने के अंदर ही मर जाए!
  • दूसरी: राजा भी बहुत बूढ़ा हो चुका है, क्या पता राजा खुद मर जाए!
  • तीसरी: क्या पता इस 1 साल के अंदर मैं खुद मर जाऊं! नेचुरल डेथ से! तेरी तरह फांसी के फंदे में लटक कर नहीं!
  • और चौथी: क्या पता में घोड़े को सच में उड़ा दूँ! घोड़े को मैं सच में उड़ना सीख दूं! 
दोस्तों हमें इस कहानी से यह सीख मिलती है: जिंदगी संभावनाओं का खेल है, जिंदगी में आप सफल होंगे या नहीं होंगे यह भी एक संभावना है। पॉसिबिलिटी है आप जो चाहते हैं वह आपको मिलेगा या नहीं मिलेगा यह भी एक संभावना है और पॉसिबिलिटी है। यह जिंदगी आपको कहां लेकर जाएगी, कोई नहीं जानता। 

बहुत से ऐसे लोग थे जिनके बहुत बड़े-बड़े सपने थे लेकिन आज उनके पास कुछ भी नहीं है। इसकी सिर्फ एक वजह है, उन लोगों ने बहुत जल्दी हार मानली, बहुत जल्दी गिव अप कर लिया। किसी ने क्या खूब कहा है इस जिंदगी में कभी भी हार मत मानो, क्योंकि मिरेकल (चमत्कार) हर रोज होते हैं। क्या पता आपके साथ कभी हो जाए!

याद रखें: लेकिन हां याद रहे कि आपको मिरेकल होने का इंतजार नहीं करना है बल्कि कोशिश करना है, फिर जाकर चमत्कार का इंतजार करना है।

उस आदमी ने कोशिश किया तब जाकर राजा ने उसकी सहमति दी की 1 साल तक तुमको मोहलत दी जाएगी। इस तरह दूसरे बंदे ने कोशिश ही नहीं की तो उसको फौरन फांसी की सजा सुना दी गई। तो आप समझ गए होंगे मैं कहना क्या चाहता हूं पहले कोशिश उसके बाद चमत्कार का इंतजार। 

तो दोस्तों आपको यह Best Inspirational Story In Hindi कैसी लगी, आप मुझे कमेंट करके जरूर बताइए। इसी तरह का हम और भी कहानी लाएंगे आप उन सब को जरूर पढ़ें। 

पेंटर की कहानी – Best Inspirational Story In Hindi

Best Inspirational Story In Hindi

एक समय की बात है, एक गांव में एक पेंटर रहता था! वह ज्यादातर नाओ को पेंट करता था और अपना घर चलाया करता था। तो एक बार उसको एक अमीर आदमी ने उसे अपने घर बुलाया और उसने अपनी नाओ को पेंट करने के लिए कहा।

फिर पेंटर ने पेंट लाकर, उसने उस नाओ को पूरी तरह से पेंट कर दिया, जैसा कलर उस नाओ के मालिक ने उसे बताया था। पेंटर जब पैसे मांगने घर के अंदर गया, तो उस समय पर नाव का मालिक घर पर नहीं था। 

उस पेंटर ने अपने पैसे, उसके घर से ले लिए और वह अपने घर चला गया। अगले दिन वो नाओ का मालिक, जो की बहुत अमीर था। वो उस पेंटर के घर पर आता है और उस पेंटर को 5 करोड रुपए देता है। 

पेंटर ये देखकर हैरान हो जाता है और वह नाव के मालिक से पूछता है कि ” यह 5 करोड़ किस बात के? ” मेरे पेंट करने के तो सिर्फ ₹100 ही हुए हैं। तो उस नाओ के मालिक ने मुस्कुराते हुए कहा कि ” ये पैसे नाओ को पेंट करने के नहीं है, बल्कि ये उस छेद को ठीक करने के पैसे हैं जो नाओ के अंदर था। 

तभी पेंटर कहता है “अरे मालिक! वह तो बहुत ही छोटा सा छेद था, जो पेंट करते समय मुझे दिख गया और मैंने उसे ठीक कर दिया। उस छोटे से छेद के लिए इतना पैसा! मुझे ठीक नहीं लग रहा है। ” 

तभी नाव का मालिक कहता है कि ” तुम मेरी बात को समझे नहीं, मैं तुम्हें पूरी बात समझता हूं! कल जब मेने तुम्हें नाओ को पेंट करने को कहा, तब मैं जल्दबाजी में तुम्हें यह बताना भूल गया कि उसमें एक छोटा छेद भी है उसे भी ठीक कर देना। ” 

और जब तुम उस नाओ को पेंट करके अपने घर चले गए, तब पेंट सूखने के बाद, मेरे बच्चे उस नाओ को समंदर में लेकर नौ ज्ञान के लिए चले गए और उस वक़्त में घर पर नहीं था। 

जब मैं घर पर वापस आया तो मेरी पत्नी ने मुझसे कहा कि बच्चे नाव लेकर समंदर में नोकिअन के लिए गए हैं, जैसे ही मैंने यह सुना तो मेरी जान निकल गई! और मैं अपने बच्चों को समंदर में ढूंढने के लिए निकल गया।

तभी मुझे मेरे बच्चे उस नाव के साथ वापस आते दिखे, उनेह सही सलामत देखने के बाद, मेरी जान में जान आ गई और मैं सुकून की साँस ली। और जब मेने उस छेद की तरफ देखा, तो तुमने उसे ठीक कर दिया था, वह भी मेरे बिना कहे। 

और तुमने मेरे घर से उसके एक्स्ट्रा पैसे भी नहीं लिए! तुम्हारे इस छोटे से काम ने, आज मेरे बच्चों की जिंदगी बचा ली।

दोस्तों इस कहानी से मैं बहुत बड़ी सीख मिलती है: मान लो की अगर वह पेंटर यह सोचकर उस छोटी से छेद को ठीक नहीं करता की नाव के मालिक ने मुझे इसको ठीक करने को कहा ही नहीं। या फिर मैं इस छेद को ठीक क्यों करूं, मुझे कौन से एक्स्ट्रा पैसे मिलने वाले हैं?

अगर वह यह सब सोचता तो उस नाव का मालिक अपने बच्चों को खो देता। और अमीर हो या गरीब! सबको अपनी औलाद प्यारी होती है। तो अगर आपको भी कभी ऐसा काम करने का मौका मिले, तो उसे बे-झिजक कर दिया करो। 

क्या पता आपकी उस छोटे से काम की वजह से, किसी की जिंदगी बच जाए! या किसी की जिंदगी संवर जाए। 

आपको इस Best Inspirational Story In Hindi से और क्या सिख मिली? जरूर कमेंट में बताएं!

Rate this post

Love to write stories about morality and motivational.

Leave a Comment