Short Story In Hindi – Best Inspiring Stories in Hindi

Share This Story!

क्या आप Best inspiring stories in Hindi और Short Story In Hindi पढ़ना चाहते हैं? तो आप बिलकुल सही जगह आये हैं।

Best Inspiring Stories In Hindi

ये रही Best inspiring stories in Hindi

एक चिड़िया थी, उस चिड़िया ने अपना घोंसला किसान के खेत में बनाया था। कुछ दिनों बाद उस चिड़िया ने, 2 अंडे दिए। कुछ दिनों के बाद उन अंडों में से 2 बच्चे निकले। 

अब चिड़िया रोज सुबह अपने बच्चों के लिए दाना चुगने के लिए जाति और शाम को वापस आती। अब हर रोज ऐसे ही होने लगा था, चिड़िया सुबह जाति और शाम को वापस आती। कई दिनों तक ऐसे ही चलता रहा।

एक दिन जब चिड़िया अपने बच्चों को घोसले में छोड़कर दाना चुगने के लिए गई थी, तो उस खेत का मालिक वहां पर आता है और कहता है कि यहां पर तो बहुत सारी फसल बढ़ चुकी है, कल अपने बेटों को बोलकर इसको कटवा दूंगा। 

यह बोलकर उस खेत का मालिक वहां से चला जाता है। यह बात चिड़िया के बच्चों ने सुन ली थी। जब शाम को चिड़िया वापस आई, उसके बच्चों ने अपनी मां से कहा कि आज खेत का मालिक आया था, और वह कह रहा था कि कल अपने बेटों को बोलकर फसल कटवा दूंगा। 

और जब फसल कटेगी, तो हमारा घोंसला भी कटजायेगा, हमें आज ही अपना घोंसला यहां से ले जाना चाहिए। यह सब बातें चिड़िया सुनी और अपने बच्चों से कहा कि तुम दोनों बेफिक्र होकर सो जाओ, कल ऐसा कुछ नहीं होगा। 

और गजब की बात यह हुई, कल सच में ऐसा कुछ नहीं हुआ। लगभग एक हफ्ता गुजरने के बाद उस खेत का मालिक फिर आया और फसल को देखकर उसने फिर से वही कहा, कि अब तो फसल काफी ज्यादा बढ़ चुकी है, कल तो मेरे नौकरों के हाथ से इसे कटवाना ही पड़ेगा। 

यह बोलकर वहां से चला गया। जब शाम को चिड़िया दाना चुग कर वापस आई, फिर से उसके बच्चों ने उसे कहा कि आज फिर से खेत का मालिक आया था और इस बार तो वह कह रहा था कि कल तो नौकरों के हाथ से फसल काटने ही पड़ेगी। 

माँ हमें जल्दी ही अपना घोंसला, दूसरी जगह ले जाना चाहिए। फिर से चिड़िया ने अपने बच्चों से कहा, कि कल भी ऐसा कुछ नहीं होगा, मेरे बच्चों तुम बेफिक्र होकर सो जाओ। और कल सुबह सच में ऐसा कुछ नहीं हुआ। फिर लगभग दो हफ्ते गुजरने के बाद, उस खेत का मालिक फिर से अपनी खेत पर आया। 

उसने कहा कि अब तो कल आकर मुझे ही फसल काटनी पड़ेगी और यह कहकर वो वहां से चला गया। फिर से जब शाम हुयी और चिड़िया अपने घोंसले में आई, उसके बच्चे ने उससे कहा कि आज फिर से खेत का मालिक आया था, और अब तो उसने यह कहा है, कि कल वह खुद आकर फसल काटेगा। 

बस यह सुनने के बाद चिड़िया तुरंत अपने बच्चों समेत, अपना घोंसला उठाकर बाजू के खेत में लेकर चली गई। जब दूसरा दिन निकला और सुबह हुई, तो चिड़िया के बच्चों ने देखा कि वह किसान, अपने खेत की फसल काट रहा था। 

यह देखने के बाद में बच्चों ने अपनी मां से पूछा कि ” आपको कैसे पता था कि वह खेत का मालिक आज पक्का फसल कटेगा? ” हालांकि इससे पहले भी वह दो बार यही कह कर गया था।

चिड़िया ने अपने बच्चों की तरफ देखा और कहा, बच्चों मेरी बात को ध्यान से सुनना यह जो इंसान है ना, जब तक अपने काम को दो बार टालता नहीं है, तब तक उस काम को हाथ तक नहीं लगाता। फिर चाहे वह कितना भी छोटा काम हो।


क्या चिड़िया ने अपने बच्चों से सही कहा? हाँ! बिल्कुल सही कहा। में आपको, आपकी सबसे बड़ी प्रॉब्लम बताऊँ? आपकी सबसे बड़ी प्रॉब्लम क्या है? क्या आपको पता है? तो मेरी बात को ध्यान से सुनना। 

आपकी सबसे बड़ी प्रॉब्लम यह है, की आपको लगता है के आपके पास टाइम है। आप ऐसा सोचते हैं कि आपके पास बहुत वक़्त है, जबकि इसका उल्टा है, आपके पास टाइम नहीं है। 

बल्किआपको देर हो चुकी है, आपने बहुत टाइम कर दिया है। लोग कहां से कहां पहुंच गए हैं और आप, अभी भी वहीं बैठकर, यही सोच रहे हैं, कि आपके पास बहुत टाइम है। 

इन सब की एक ही प्रॉब्लम है, और वह है काम को कल पर टालना और आज के दौर में हमारी यह आदत बन चुकी है, चाहे वह कितना ही छोटा काम क्यों ना हो। जब तक हम उसे कल पर नहीं टालते हैं, तब तक हमें सुकून की नींद नहीं आती। 

अब काम को कल पर टालते रहते हैं, यह कहकर कि आज मूड नहीं है, इस काम को कल देखेंगे, कल करेंगे, और वह कल कभी आता ही नहीं है। 

और हम उस काम को भूल जाते हैं, अपने दूसरे कामों में। हम अपने दूसरे कामों में बिजी हो जाते हैं, और वह दूसरे काम कौन से हैं? रील्स देखना, सोशल मीडिया चलाना, फालतू के वीडियो देखना। जिन वीडियो का न सर होता है और न पैर। 

मतलब की मीनिंगफुल बात तो कुछ होती ही नहीं है उन वीडियो में, इस तरह की वीडियो में हम ना जाने कितना टाइम बर्बाद कर देती है। और जो हमारे इंपॉर्टेंट काम होते हैं, उन्हें हम भूल जाते हैं। और फिर जब हमें याद आता है आज ही हमें उस काम को करना पड़ेगा, उसके बिना हमारा दूसरा काम नहीं होगा, तब हम उस काम को करते हैं। 

मतलब यह है कि, जब तक हमारे सर पर प्रेशर नहीं आता है, तब तक हम उस काम को टालते रहते हैं। काम को टालना ऐसा ही है, जैसे क्रेडिट। जब हम कोई चीज क्रेडिट पर लेते हैं तो हम उस चीज का फायदा तो उठा लेते हैं, लेकिन एक दिन के बाद, 2 दिन के बाद, हफ्ते के बाद, या महीने के बाद हमें उसका बिल पे (Pay) करना पड़ता है।

तो आपको इस Best inspiring stories in Hindi से क्या सीख मिली? कमेंट करके जरूर बताइए!

Rate this post

Love to write stories about morality and motivational.

2 thoughts on “Short Story In Hindi – Best Inspiring Stories in Hindi”

Leave a Comment